RT PCR Test Full Form in Hindi | RT PCR Test का फुल फॉर्म क्या है

RT PCR का फुल फॉर्म क्या होता है, RT PCR होता क्या है, RT PCR Test कबऔर क्यों कराया जाता है, RT PCR Test कैसे की जाती है, तो आपको हमारे लेख को अंत तक पढ़ने की आवश्यकता होगी। क्योंकि आज के लेख में मैं आप सभी को RT PCR Test Full Form in Hindi से जुड़ी हर महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाला हूं।

इसलिए आप सभी से यह आग्रह है कि आप सभी हमारे आज के इस RT PCR Test के पोस्ट के अंत तक बने रहें। आज मैं आपको यह भी जानकारी साझा करने वाला हूं कि मेडिकल के क्षेत्र में RT PCR Test कितना जरूरी हो चुका है। देखा जाए तो बढ़ती टेक्नोलॉजी के साथ ही साथ हमारे देश के विज्ञान ने भी काफी सारी तरक्की कर लिया है,

वही अब हम यह साफ साफ देख सकते है कि मेडिकल के क्षेत्र में भी विज्ञान ने काफी कुछ विकसित कर लिया है। काफी कम लोग जानते होंगे कि मेडिकल साइंस के तरह अब हमारे बीच कुछ ऐसे तकनीक भी उपलब्ध हो चुके है जिसके जरिए इंसान के अंदर मौजूद किसी भी प्रकार की दोष और वायरस का भी पता लगाने के लिए प्रयोग किया जाता है।

वही आज के इस पोस्ट में आपको ऐसे ही एक बेहतरीन तकनीक के बारे में जानकारी प्राप्त होने वाली है जिसका नाम RT PCR है। दरअसल, पिछले कुछ वर्षों में RT PCR काफी ज्यादा चर्चित हो गई है। ऐसा इसलिए भी कहा जा सकता है

क्योंकि पिछले कुछ वर्षो से हमारा देश कोरोना जैसी गंभीर महामारी का सामना कर रही है। ऐसे में RT PCR Test काफी ज्यादा सुनने में आया है। वही देखा जाए तो अधिकांश व्यक्ति इस टेस्ट के बारे में नहीं जानते थे, लेकिन कोरोना में उन्हें इस टेस्ट के बारे में पता चला।

तो चलिए अब बगैर समय गवाएं हम RT PCR Test Full Form in Hindi से संबंधित हर महत्वपूर्ण जानकारी साझा कर देते हैं। लेकिन पोस्ट की शुरुआत से पहले आपको बता दूं कि आपको लेख को अंत तक पढ़ना है। क्योंकि आधा इंफॉर्मेशन से कई बार मन में कई प्रकार के सवाल आ जाते है। ऐसे में मैंने RT PCR Test से जुड़ी हर सवाल का जवाब देने की कोशिश करी है।

RT PCR का फुल फॉर्म क्या होता है | What is RT PCR Test Full Form in Hindi

दरअसल, वर्तमान समय में अधिकांश लोग RT PCR के बारे में जानना चाहते हैं कि आखिर इसका फुल फॉर्म क्या है? यदि आप भी इन लोगों में शामिल है, तो आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि RT PCR का फुल फॉर्म होता है Reverse Transcription Polymerase Chain Reaction। अब कई लोगों के मन में यह ख्याल आया होगा कि इसका हिंदी फुल फॉर्म क्या है?

यदि आप भी यह सोच रहें है, तो आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि इसका हिंदी फुल फॉर्म नहीं होता है। दरअसल, यह एक प्रकार का Lab Tachnic है, जिसका उपयोग मुख्य रूप से शरीर में किसी भी तरह का वायरस का पता लगाने के लिए किया जाता है। तो चलिए अब बिना समय गंवाए RT PCR Test होता क्या है इसके बारे में जान लेते है।

RT PCR क्या होता है | What is RT PCR in Hindi

जैसा कि मैंने आपको पहले भी बताया है कि यह एक प्रकार का Lab टेक्निक है, जिसका उपयोग मुख्य रूप से शरीर में किसी भी तरह का वायरस का पता लगाने के लिए किया जाता है।  शरीर में किसी भी तरह के वायरस का पता लगाने के लिए यह तरीका सबसे अच्छा माना जाता है। हालांकि, इसका उपयोग कैसे किया जाता है, इसके बारे में भी मैं आपको विस्तार से आगे के लेख में जानकारी साझा करने वाला हूं।

दरअसल, वायरस का पता लगाने के साथ ही साथ इस RT PCR Test का उपयोग यह जानने के लिए भी किया जाता है कि व्यक्ति के शरीर में न्यूक्लिक एसिड उपस्थित है या नहीं। आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि न्यूक्लिक एसिड के तहत ही RNA और DNA मौजूद होता है। वही कोरोना काल में RT PCR का उपयोग काफी ज्यादा बढ़ गया है। क्योंकि ज्यादातर इस टेस्ट का उपयोग वायरस का पता लगाने के लिए किया जा रहा है।

आपने कोरोना काल के दौरान डॉक्टर्स द्वारा जांच कराने की सलाह दी जा रही थी यह तो जरूर सुना होगा। वही आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि इस दौरान डॉक्टर्स द्वारा RT PCR Test कराने का ही निर्देश जारी किया जा रहा था। दरअसल, किसी भी तरह के शरीर में वायरस का पता लगाने के लिए RT PCR Test प्रभावी माना जाता है। यही वजह है कि कोरोना में इसका चर्चा काफी ज्यादा सुनने में आया।

RT PCR Test कब और क्यों कराया जाता है?

मुख्य तौर पर शरीर के किसी भी तरह के वायरस का पता लगाने हेतु डॉक्टर्स RT PCR Test कराने की सलाह देते है। इसलिए यदि आपको भी ऐसा महसूस होता है कि आप किसी वायरस के संक्रमण में आ चुके है, तो ऐसी स्थिति में आप सभी को RT PCR Test कराने की आवश्यकता होती है।

इसके साथ ही अगर आपको RNA में कैंसर की मौजूदगी का पता लगाना है, तो इसके लिए भी आप RT PCR Test करा सकते हैं। इसके साथ ही कई बार व्यक्ति अपने शरीर में ट्यूमर पता लगाने के लिए भी इस टेस्ट का उपयोग करते है। यदि आपको किसी भी तरह के वायरस के लक्षण महसूस होते है, तो ऐसे में आप यह टेस्ट करा सकते है।

RT PCR Test कैसे की जाती है?

दरअसल, RT PCR टेस्ट करने के लिए आपको जारी किए गए दिशा निर्देशों के मुताबिक व्यक्ति को कुछ विशेष तैयारी करना जरूरी होता है। यदि आप आरटी पीसीआर टेस्ट करवाने से पहले किसी भी तरह के दवाइयों का सेवन कर रहे हैं, तो इस टेस्ट को करवाने से पहले आपको अपने डॉक्टर से इसके बारे में बताने की आवश्यकता होगी कि आप कौन-कौन से दवाइयों का सेवन कर रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक, इस RT PCR का इस्तेमाल किसी भी वायरस का पता लगाने के लिए किया जाता है और इसके लिए डॉक्टर्स को पहले व्यक्ति के शरीर के कई भागों का सैंपल लेना पड़ता है। सभी सैंपल के बाद इसे लैंब में भेजा जाता है। जिसके बाद लैब में जेनेटिक वायरस के साथ इस सैंपल को मैच किया जाता है।

वही सैंपल मैच करने के दौरान यदि आपके द्वारा दिए गए सैंपल जेनेटिक वायरस से मैच हो जाता है तो इसका मतलब आपके शरीर में वायरस मौजूद है। आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि आरटी पीसीआर टेस्ट का रिजल्ट आपको कम से कम 6 से लेकर 8 घंटे के अंदर में प्राप्त हो जाएगा।

लोगो ने यह भी पूछा (FAQ)

Q1. RT PCR रिपोर्ट कैसे प्राप्त होगा?

आप RT PCR रिपोर्ट प्राप्त करने हेतु टेस्ट के वक्त दिए गए मोबाइल नंबर के इस्तेमाल से पता कर सकते हैं। या फिर आप चाहें, तो सीधे लैब में पहुंचकर भी RT PCR Test का रिपोर्ट प्राप्त कर सकते हैं।

Q2. RT PCR Test कराने में कितना खर्च हो सकता है?

जानकारी के मुताबिक, RT PCR Test कराने में आपके 800 से लेकर 1200 रुपए तक के बीच में खर्च हो सकते है।

Q3. RT PCR Test का रिजल्ट आने में कितना समय लगता है?

RT PCR Test का रिजल्ट आने में 6 से 8 घंटे लगता है।

निष्कर्ष

आशा करता हूं कि आपको हमारा RT PCR Test Full Form in Hindi का यह पोस्ट पसंद आया होगा। क्योंकि आज के लेख में मैंने आप सभी को RT PCR Test क्या होता है और कैसे कराया जाता है, इससे जुड़ी हर महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान किया है।

इसके साथ ही अगर आपको हमारे आज के इस लेख को पढ़कर किसी भी तरह का कोई भी सवाल पूछना हो, तो आप कमेंट करके पूछ सकते हैं। इसके साथ ही पोस्ट पसंद आए, तो शेयर करना न भूलें।

इन्हे भी पढ़े?

You cannot copy content of this page