रागी क्या है, रागी के फायदे, नुकसान व उपयोग (2022-23)

हेलो आप सभी का स्वागत है आज हम जानेगे रागी क्या है (ragi in hindi), रागी के फायदे, नुकसान व उपयोग, यह प्राचीनकाल से ही हमारे पूर्वजों द्वारा मोटे अनाज में इस्तेमाल होने वाले जैसे जौ, बाजरा, मक्का, ज्वार आदि ठीक इन्ही की तरह रागी अनाज होता है।

जिसे कई नामों से जाना जनता है जैसे रागी, मिलेट, फिंगर, नाचनी, मंडुआ आदि से जाना जाता है दोस्तो अगर आप ही इसका इस्तेमाल कर चुके है या अभी तक अपने इसका इस्तेमाल नही किया है तो मैं आपको बताना चाहूँगा।

यह खाने में बहुत ही स्वादिष्ट होता है और यह शरीर की ऊर्जा को उतपन्न करने का कार्य भी करता है अगर आप भी इसका सेवन अपने खाने के लिए रोज़ाना करते है तो यह शारीरिक स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायक होता है।

रागी अनाज में कई तरह के औषधि गुण पाए जाते है जो हमारे लिए बहुत अच्छे होते है मगर आज भी बहुत से लोग ऐसे है जिन्हें रागी के बारे में जानकारी नही है अगर आप भी रागी से जुड़े सभी सवालों के जवाब जानना चाहते है।

तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें जिस से मेरे द्वारा दी गयी रागी आटा क्या है पूरी जानकारी आपको अच्छे से समझ आये इसलिए इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढें चलिए शुरू करते है।

रागी क्या है? – Ragi in Hindi

रागी क्या है, रागी के फायदे, नुकसान

दोस्तो अभी भी बहुत से लोगो के मन में यह होगा कि रागी क्या है जैसा अभी ऊपर बताया रागी भी रख अनाज है जैसे जौ, बाजरा, आदि जैसे बहुत पुराने अनाज है।

रागी भी इन्ही की तरह बहुत पुराना अनाज है और यह हमारे भारत देश मे चार हज़ार साल पहले लाया गया था रागी खाने में स्वादिष्ट होने के साथ हमारे शरीर के लिए भी बहुत अच्छा होता है।

रागी की फसल करने के लिए आप पूरे साल में कभी भी इसकी फसल लगा सकते है इसका कोई भी निश्चित समय नही होता है और यह फसल को तैयार होने में भी बहुत कम समय लगता हैं।

रागी की फसल ऊँचे इलाके तथा पहाड़ी इलाको में अच्छा पैदावार होती है भारत में 2000 मीटर ऊँची हिमालय पर रागी की खेती की जाती है रागी की सबसे अच्छी बात यह है कि इसमें मेथोनाइल और अमीनो अम्ल पाया जाता है।

जो सबसे ज्यादा आलू में स्टार्च के रूप में पाया जाता है इसके बहुत से गुण होने के कारण ही इसे सुपर फ़ूड के नाम से भी जाना जाता है।

रागी में पाए जाने वाले पोषक तत्व?

दोस्तो जैसा कि अभी आपने ऊपर पढ़ा होगा कि रागी हमारे लिए बहुत ही फायदेमंद होती है क्योंकि इसमें ऐसे बहुत से पोषक तत्व पाए जाए है जो हमारे शरीर के लिए बहुत अच्छे होते है जैसे:- प्रोटीन, पोटैशियम, फाइबर, कैल्शियम, मैंगनीशियम, कार्बोहाइड्रेट, फॉस्फोरस, आयोडीन, आयरन, जिंक, विटामिन बी1, विटामिन बी2, विटामिन बी3, सोडियम, कैरोटीन, मेथोनाइन अमीनो अम्ल, ईथर का अर्क आदि जैसे सभी तत्व रागी में मौजूद होते है।

रागी का पौधा कैसा होता है?

रागी के पौधे की बात करे तो यह लगभग 1 मीटर से डेढ़ मीटर तक ऊँचा होता है और इसमें फल चपटे तथा गोलाकार होते है रागी का पौधा देखने मे कुछ इस तरह का दिखता है जैसा कि आप नीचे दिए हुए फ़ोटो में देख सकते है अगर हम रागी के बीज की बात करे तो यह देखने मे आपको राई की तरह लगेगा यकीनन अगर आप इसे पहली बार देख रहे है तो आप इसे राई ही समझेंगे।

रागी क्या है, रागी के फायदे, नुकसान
रागी क्या है

रागी की फसल अधिक कहाँ होती है?

दोस्तो जैसा कि अभी मैंने आपको बताया रागी की फसल पहाड़ी इलाको में बहुत अधिक होती है रागी अफ्रीका और एशिया में यह सूखे स्थानों पर भी इसकी खेती होती है और हमारे भारत मे सबसे ज्यादा अधिक मात्रा में कर्नाटक राज्य में रागी की फसल होती है।

कर्नाटक ही एक मात्र स्थान ऐसा है जहाँ रागी की फसल बहुत ज्यादा होती है इसके बाद झारखंड, हिमाचल प्रदेश, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, तमिलनाडु, उत्तराखंड आदि राज्य में इसकी फसल अधिक होती है।

रागी का हिन्दी नाम? – रागी का दूसरा नाम

दोस्तो रागी को अलग अलग नाम से जाना जाता है हमारे भारत में भी अलग अलग राज्य में अलग अलग बोलचाल होने से भी रागी को अलग अलग नाम से जाना जाता है जिसे नीचे बताया गया है।

  1. रागी का हिंदी नाम – मंडुआ, रागी, नाचनी
  2. रागी का अरबी नाम – तैलाबौन
  3. रागी का संस्कृत नाम – नृत्यकुंडल
  4. रागी का राजस्थान नाम – रागी
  5. रागी का गुजराती नाम – नावतोनागली
  6. रागी का तेलगु नाम– रागुलु
  7. रागी का पंजाबी नाम – चालोडरा
  8. रागी का मलयालम नाम – मुत्तरी
  9. रागी का अंग्रेजी नाम – इंडियन मिलेट, फिंगर मिलेट
  10. रागी का मराठी नाम – नचीरी
  11. आदि जैसे नामो से भी जाना जाता है।

रागी खाने के फायदे? – Benefits of Ragi in Hindi

दोस्तो जैसा कि अभी बताया रागी हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभकारी होती है यह हमारे शरीर की अन्य बीमारियों के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होती है जिन्हें नीचे बताया गया है।

1- प्रोटीन – अगर आपके शरीर मे प्रोटीन की कमी है तो ऐसे में आपको रागी का इस्तेमाल करना चाहिए रागी में भरपूर प्रोटीन और एमिनो एसिड भारी मात्रा में होता है यह शरीर के प्रोटीन को पूर्णरूप से भरपूर बनाता है।

2- तनाव में कारगार – आज के समय मे खानपान अच्छा नही होने के कारण कुछ लोगो मे तनाव की समस्या बनी रहती है और रागी मे अधिक मात्रा में एन्टीऑक्सीडेंट होता है जो हमारे शरीर के तनाव और डिप्रेशन जैसी समस्याओं से छुटकारा दिलाता है ऐसे में आप रागी को जरूर खाये।

3- डायविटीज से छुटकारा – नार्मल खाने जैसे गेंहू चावल की तुलना में रागी में पोलीफेनॉल्स और फाइबर की मात्रा सही होती है जो हमारे ब्लड प्रेशर को कंट्रोल रखने में बहुत अच्छा होता है अगर आप भी ब्लड प्रेशर के रोगी है तो आप इसका सेवन नाश्ता या लंच में कर सकते है जो कि बहुत ही फायदेमंद है।

4- एनीमिया रोगी के लिए – अगर आपके शरीर मे हीमोग्लोबिन की कमी है या की भी व्यक्ति को एनीमिया के रोग से पीड़ित है तो ऐसे में आप रागी का इस्तेमाल करे यह आपके शरीर के लिये बहुत लाभदायक होगा।

5- मोटापा कम करने में सहायक- दोस्तो जैसा कि आज के समय मे बहुत ज्यादा फ़ास्ट फ़ूड खाने और ज्यादा हेल्दी खाने से भी आपका मोटापा बढ़ता ही जा रहा है तो ऐसे में आपको रागी का सही मात्रा में इस्तेमाल करना चाहिए रागी में मौजूद ऐसे औषधि है जो हमारे शरीर के फैट को कम करने में मदद करते है।

6- हिचकी में लाभकारी- दोस्तो का ही कभी ऐसा होता है किसी कारण से आपको बहुत ज्यादा हिचकी आती है जिनके कारण हमें किसी भी चीज को खाने में बहुत परेशानी होती है ऐसे में अगर आप रागी का इस्तेमाल करते है तो यह हमारी हिचकियों की समस्या से भी छुटकारा दिलाता है।

7- खाँसी जुकाम में लाभकारी- अगर आपको खांसी जुकाम जैसी परेशानी ज्यादा होती है तो आपको रागी का इस्तेमाल करना चाहिए जिस से आपकी यह समस्या में बहुत लाभदायक होता है।

8- हड्डियों को मजबूत बनाने में लाभकारी- अगर आपके घर के कोई छोटा बच्चा अगर आप भी उसे रागी खिलाते है तो वह उसमें कैल्शियम की कमी को पूरा करने में बहुत लाभकारी होता है और इसका इस्तेमाल युवा करते है तो यह उनके लिए भी बहुत फायदेमंद होता है और उनकी भी हड्डियाँ मजबूत करता है अर्थार्त कैल्शियम की कमी भी पूरी करता है।

रागी खाने के नुकशान? – Side Effects Of Ragi in hindi

दोस्तो वैसे तो रागी से कोई भी नुक़सान नही है क्योंकि ये भी औरो अनाजो की ही तरह है मगर आप कुछ इस तरह के रोग से पीड़ित है तो आप रागी का इस्तेमाल नही करे जैसे:-
किडनी- अगर आपकी किडनी में पथरी है तो ऐसे में आप रागी का इस्तेमाल नही करे क्योकि इसमे कैल्शियम की मात्रा अधिक होती है जो किडनी के लिए नुकसानदायक है।

थायराइड- अगर आप थायराइड के रोगी है तो इसका इस्तेमाल आपके लिए नुकशान की बात है क्योंकि थायराइड वाले रोगी के लिए इस से दिक्कत बढ़ने के चांस ज्यादा होता है।

नार्मल समस्या- अगर आप बहुत ज्यादा रागी का इस्तेमाल करते है तो ऐसे में आपको पेट मे गैस, डायरिया, कब्ज, पेट फूलने जैसी समस्या देखने को मिलती है।

रागी का उपयोग कैसे करें? – Ragi uses in hindi

दोस्तो रागी के आटा से बहुत सी चीज बन सकती है मगर आप रोजाना इसका सेवन करना चाहते है यो उसके लिए आपको 7kg गेहूं का आटा लेना है और उसमें 3kg रागी का आटा मिला ले और रोटी बनाकर खाये या आप इस से इडली भी बना सकते है।

और आप इसका रेगुलर इस्तेमाल भी कर सकते है आपके शरीर मे खून की कमी को पूरा करता है और बताये हुए तरीके से आप गेंहू के आटे में मिलाते है तो यह आपको नुकशान भी नही देगा।

रागी गर्भावस्था में?

दोस्तो अगर कोई महिला गर्भावस्था से है और ऐसे में अगर रागी खाने के लिए कर रही है तो यह उनके लिए बहुत ही लाभदायक होता है और उसके बच्चे के लिए भी बहुत अच्छा होता है।

क्योंकि यह कैल्शियम से भरपूर होता है, फैट मौजूद होता है, अनिद्रा से आराम मिलता है, महिला के स्तनों में दूध बढ़ाता है, शरीर के ज्यादा से ज्यादा हिस्सों में प्रोटीन पहुचाता है, आयरन तथा मिनरल्स भी पाया जाता है, कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल रहता है आदि जैसे सभी फायदे गर्भावस्था महिला को होते है।

रागी आटे का उपयोग? – Ragi Ke Upyog

दोस्तो अब बात आती है रागी आटे से क्या क्या बनाया जा सकता है वैसे तो ज्यादातर लोग रागी से बनी रोटी या चपाती को बनाने के लिए इस्तेमाल करते है जिसे सब्जी के साथ खाने में बहुत टेस्टी लगता है।

अगर आप रागी से डोसा बनाते है तो यह भी बहुत ही स्वादिष्ट बनता है क्योकि इसमे सभी मौजूद पौष्टिक तत्व अधिक मात्रा में पाए जाते है।

रागी का उपयोग बैकरी में बिस्किट और ब्रेड बनाने में भी उपयोग किया जाता है

रागी का लड्डू बनाने में भी उपयोग किया जाता है इतना ही नही रागी का उपयोग और भी बहुत सी रेसिपी बनाने में किया जाता है।

Note – रागी का आटा जौ, बाजरा के आटे की तरह ही होता है इसे बन्द डिब्बे में रखे और सूखे और ठंडे स्थान पर रखे जिस से यह खराब नही होता है।

रागी का आटा कैसे बनता है?

दोस्तो अब आपके मन मे यह सवाल होगा कि रागी का आटा कैसे बनता है जैसे गेंहू, जौ, का आटा चक्की पर पिसकर बनता है ठीक उसी तरह से रागी का आटा भी बनता है जिसे आप किसी भी जगह बनवा सकते है।

रागी आटा कहाँ से ले?

वैसे तो रागी का आटा (ragi ka atta) आपको बाजार में हर जगह नही मिल सकता है क्योंकि इसकी फसल हर जगह नही होती है जैसा अभी हमने आपको ऊपर बताया था लेकिन आज के समय मे आप घर बैठे सभी सामान कही से भी मंगबा सकते है।

ऑनलाइन के जरिये तो ऐसी बहुत सी कंपनी है जो रागी का आटा बेचती है तो आप वहाँ से बहुत आसानी से खरीद सकते है और इस्तेमाल कर सकते है।

  • amazon
  • flipkart

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल?

Q. क्या रागी आटा फायदेमंद होता है? – Ragi Khane Ke Fayde

Ans. रागी आटा बहुत ज्यादा फायदेमंद होता है जैसा कि अभी आप ऊपर पढ़कर आये है इसका सही मात्रा में इस्तेमाल करने से हमारे शरीर को छोटे रोगों से मुक्त करता है।

Q. रागी आटा किन किन देशो में पाया जाता है?

Ans. दोस्तो रागी आटा आज के ऑनलाइन समय मे यह पूरी दुनिया मे मिल सकता है मगर रागी की पैदावार सिर्फ 3 देशो में ही होती है अफ्रीका, एशिया, भारत इन देशों में रागी की फसल होती है क्योंकि यह ऊँचे और पहाड़ी इलाको में होता है।

Q. रागी का आटा बच्चो को स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए कैसा है?

Ans. दोस्तो अपने देखा होगा कुछ महिलाएं ऐसी भी होती है जो बच्चे को जन्म देने के बाद उनका स्तन सुख जाता है या कम होता है ऐसे में अगर महिला रागी का इस्तेमाल करती है तो यह उनके स्तन में दूध बढ़ा देता है।

Conclusion

तो दोस्तो रागी क्या है मैं आशा करता हूं मेरे द्वारा दी हुई यह ( ragi i hindi, Ragi Ke fayde Nuksan, Ragi Flour in Hindi) जानकारी आपको अच्छी लगी होगी और यह जानकारी आपको पसंद आई हो तो अपने दोस्तो के साथ शेयर करना नही भूले या मेरे द्वारा दी हुई जानकारी में आपको कोई भी कमी लगे तो आप मुझे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं जिससे मैं अपनी कमी में सुधार करूँगा।

दोस्तो अगर आप भी नई नई जानकारी सबसे पहले जानना चाहते है तो आप हमारी gethindimehelp.in साइट को अभी फ्री में subscribe कर सकते है जिससे जब भी हमारे द्वारा दी हुई शयेर करे तो आप तक जरूर पहुंचेगी। धन्यबाद

Read More :

  1. Azithromycin In Hindi – एजिथ्रोमाइसिन की जानकारी, लाभ, फायदे
  2. A To Z Multivitamin Tablet In Hindi – फायदे, नुकशान, खुराक कैसे लें
  3. Manforce Tablet Uses In Hindi फायदे, नुकशान, खुराक कैसे लें
  4. बिना बताये शराब छुड़ाने के उपाय | नशा छुड़ाने की आयुर्वेदिक दवा
Share on:
you may also like this!

Hi, I’m Sandeep Kumar. A Blogger, Digital Marketer And Social Influencer, i Have A More Than 2 years Of Experience. I Love Technology And Also Love To Share Knowledge On Social Platform

close

You cannot copy content of this page

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
Best Wordpress Adblock Detecting Plugin | CHP Adblock