वन्दे मातरम् – Vande Mataram History, Writer, Lyrics

हमारे देश का राष्ट्रीय गीत वन्दे मातरम् है। यह एक ऐसा गीत है, जिसके लिए हर हिंदुस्तानी के दिल में बहुत सारा इज्जत है। इस गीत को अगर पत्थर दिल व्यक्ति भी सुनेंगे, तो उनके मन में भी देश के लिए प्रेम उभर कर सामने आएगा। आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि जब वंदे मातरम गीत को लिखा गया था तब सिर्फ संस्कृत भाषा का ही उपयोग किया जाता था। यानी उस समय सभी केवल संस्कृत में ही बात किया करते थे।

यदि कारण है कि हर किसी को संस्कृत भाषा समझ में नहीं आती है। ऐसे में हर किसी के लिए वंदे मातरम गीत के अर्थ के बारे में समझना मुश्किल हो जाता है। देखा जाए तो वर्तमान समय में काफी कम व्यक्ति है, जिन्हें संस्कृत भाषा समझ आती है। इसलिए अगर आप भी वंदे मातरम गीत के अर्थ जानना चाहते हैं, तो आपके लिए हमारा लेख काफी महत्वपूर्ण साबित हो सकता है।

क्योंकि आज के लेख में मैं आप Vande Mataram History, Writer, Lyrics, Meaning in Hindi इत्यादि से जुड़ी हर महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाला हूं। इसलिए आप सभी से निवेदन है कि आप हमारे आज के इस वंदे मातरम पोस्ट के अंत तक बने रहें। तो चलिए सबसे पहले हम इसके Lyrics के बारे में जान लेते है।

वन्दे मातरम् बोल | Vande Mataram Lyrics In hindi

वन्दे मातरम्!

सुजलां सुफलां मलयजशीतलां

शस्यश्यामलां मातरम्!

शुभ-ज्योत्सना-पुलकित-यामिनीम्

फुल्ल-कुसुमित-द्रमुदल शोभिनीम्

सुहासिनी सुमधुर भाषिणीम्

सुखदां वरदां मातरम्!

सन्तकोटिकंठ-कलकल-निनादकराले

द्विसप्तकोटि भुजैर्धृतखरकरबाले

अबला केनो माँ एतो बले।

बहुबलधारिणीं नमामि तारिणीं

रिपुदल वारिणीं मातरम्!

तुमि विद्या तुमि धर्म

तुमि हरि तुमि कर्म

त्वम् हि प्राणाः शरीरे।

बाहुते तुमि मा शक्ति

हृदये तुमि मा भक्ति

तोमारइ प्रतिमा गड़ि मंदिरें-मंदिरे।

त्वं हि दूर्गा दशप्रहरणधारिणी

कमला कमल-दल विहारिणी

वाणी विद्यादायिनी नवामि त्वां

नवामि कमलाम् अमलां अतुलाम्

सुजलां सुफलां मातरम्!

वन्दे मातरम्!

श्यामलां सरलां सुस्मितां भूषिताम

धमरणीं भरणीम् मातरम्।

वंदे मातरम गीत का अर्थ | Vande Mataram Lyrics Meaning in Hindi

मेरी माँ मैं तुम्हारी वंदना करता हूँ,

मीठे फलों वाली माँ, साफ़ पानी वाली माँ

खुशबूदार हवा वाली माँ

हरे भरे मैदानों वाली, खेतों वाली मेरी माँ

सुकून देने वाली चाँदनी भरी रातों वाली,

खिलते हुए प्यारे-प्यारे फूलों वाली, घने पेड़ों वाली

मीठी-मीठी बाली वाली,

सब को ख़ुशियाँ देने वाली मेरी प्यारी माँ।

गूँजती है आवाज़ें 30 करोड़ जोशीली कण्ठों की

अपने बाज़ुओं में धारण कर रखा है तूने 60 करोड़ तलवारों को

ए माँ तेरे पास इतनी शक्तियाँ है फिर भी क्या तू कमज़ोर है

ए माँ तू ही हमारी हिम्मत है तू ही हमारी शक्ति है

मेरी माँ मैं तुम्हारी वंदना करता हूँ,

ए माँ तू ही मेरा ज्ञान है, तुझे मैं अपना धर्म मानता हूँ

तू ही मेरी आत्मा है, लक्ष्य भी तू ही तो है मेरा

मेरी जान भी तू ही तो है,

मेरी अंदर की अच्छाई भी तू, सच भी तू

मेरी लिए सारे मंदिर भी तू ही है।

तू ही दुर्गा दश सशस्त्र भुजाओं वाली,

तू शक्तिशाली दुर्गा माँ है

तू बहार है सेकड़ों कमल के फूलों की

तेरे बिना सब अधूरे हैं,  तू गंगा है ज्ञान की

जो तेरे दासों के दास हैं, मैं उन का भी दास हूँ

मीठे फलों वाली माँ, साफ़ पानी वाली माँ

मेरी माँ मैं तुम्हारी वंदना करता हूँ।

वंदे मातरम किनके द्वारा लिखा गया था?

क्या आप जानते है कि वंदे मातरम किनके द्वारा लिखा जाता है, यदि नहीं तो कोई बात नहीं आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि वंदे मातरम गीत को बंकिम चंद्र चट्टोंपाध्याय द्वारा लिखा गया था। बंकिमचंद्र एक अद्भुत और काफी प्रसिद्ध लेखक थे और काफी कम व्यक्तियों को पता है कि उनका पहला प्रकाशित कार्य बंगाली में नहीं हुआ था, बल्कि उनका पहला प्रकाशित कार्य अंग्रेजी में हुआ था।

जिसका नाम राजमोहन्स वाइफ बताया जाता है। इसके साथ ही आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि बंगाल में बंकिमचंद्र का प्रथम कार्य दुर्गसानंदनी बताया जाता है। हालांकि, इसे साल 1865 में मुख्य तौर पर प्रकाशित किया गया था। दुर्गसानंदनी की बात करें, तो यह एक उपन्यास था परंतु उसके बाद इन्हें यह महसूस हुआ कि इनकी असल प्रतिभा कविता लिखने में है।

दरअसल, इन्होंने कई कविताएं लिखने के बाद वंदे मातरम लिखा। जिसके बाद ये देश भर में वंदे मातरम एक राष्ट्रवाद का प्रतीक बन चुका है। लेकिन क्या आप जानते है कि वंदे मातरम की धुन को किसने तैयार किया था, यदि नहीं तो आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि इसकी धुन रवींद्रनाथ ठाकुर ने तैयार किया था।

वही जानकारी के मुताबिक साल 1894 अप्रैल महीने में बंकिमचंद्र की मौत हो चुकी थीं और इसके 12 वर्ष के पश्चात जब देश में क्रांतिकारी बिपिनचंद्र पाले ने राजनीतिक पत्रिकाओ को प्रकाशित किया गया तब उन्होंने इसका नाम चेंज करके वंदे मातरम रख दिया। तो आपने हमारे अभी तक के लेख में वंदे मातरम किसने लिखा था, इसके बारे के तो जान ही चुके होंगे।

वंदे मातरम का इतिहास – Vande Mataram History In Hindi

जैसा कि हम सभी जानते है कि पहले हमारे देश पर अंग्रेजों का शासन चला करता था। ऐसे के अंग्रेजो के चंगुल में फंस कर 1870 के दौरान देश भर में मुख्य अवसर पर अंग्रेजो का ही गाना गाया जाता था जिसका नाम है “गॉड सेव द क्वीन”। आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि उस दौरान विशेष अवसर पर इस गाने को गाना अनिवार्य कर दिया गया था।

दरअसल, ये सब देख कर सबसे ज्यादा बंकिमचंद्र को बुरा लगता था। साल 1876 में उन्होंने अंग्रेजी गीत गॉड सेव द क्वीन गाने के विकल्प में एक गीत तैयार किया था। आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि इस गाने को बंगाली और संस्कृत के मिश्रण से तैयार किया गया था। हालांकि, शुरुआत में इनमें से सिर्फ दो श्लोक संस्कृत में रचना किया गया था।

मुख्य तौर पर गाने का टाइटल वंदे मातरम रखा गया था। हालांकि, यह गाना 1882 में आनंद मठ उपन्यास में प्रकाशित किया गया था। ऐसा कहा जाता है कि गाने को उपन्यास में भावानंद नाम के एक साधु के द्वारा किया गया था। इस गीत को सबसे पहले साल 1896 में कलकत्ता अधिवेशन में गाया गया था। वही अभी की बात करें, तो सर्वे के मुताबिक टॉप 10 गानों में दूसरे नंबर पर वंदे मातरम गीत है।

FAQ About Vande Mataram History

Q1. वंदे मातरम सबसे पहले कब और कहां गाया गया था?

वंदे मातरम साल 1896 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अधिवेशन में सबसे पहले गाया गया था। वही आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि यह आयोजन कोलकत्ता में हुआ था।

Q2. वंदे मातरम का हिंदी अर्थ क्या है?

वंदे मातरम का हिंदी अर्थ “माता की वंदना करता हूं” होता है।

Q3. वंदे मातरम का गायन समय कितना है?

आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि वंदे मातरम का गायन समय तकरीबन 1 मिनट 9 सेकेंड है।

Q4. राष्ट्रगान कितने मिनट का होता है?

क्या आप जानते है कि राष्ट्रगान कितने मिनट का होता है, यदि नहीं तो आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि राष्ट्रगान कुल 52 सेकेंड का होता है।

निष्कर्ष

उम्मीद करता हूं कि आपको हमारा आज का Vande Mataram History, Writer, Lyrics, Meaning in Hindi का यह पोस्ट पसंद आया होगा। क्योंकि आज के लेख में मैंने आप सभी को वंदे मातरम गीत से जुड़ी हर महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान किया है। इसके साथ ही अगर आपको हमारे आज के इस वंदे मातरम गीत के पोस्ट को पढ़कर कोई सवाल पूछना हो, तो आप कमेंट करके पूछ सकते हैं। साथ ही पोस्ट पसंद आए, तो शेयर करना भी ना भूलें।

Read More :
  1. जल्दी याद करने के तरीके | Best 19 Yaad Karne Ka Tarika
  2. Kamal Ka Phool Importance in Hindi | (कमल का फूल)
4.5/5 - (2 votes)

You cannot copy content of this page