Top Best Moral Stories In Hindi For Class 9 | हिंदी कहानियां – 2020

moral stories in hindi for class 9
moral stories in hindi for class 9

1. प्यासा कौआ 

( Moral Stories In Hindi For Class 9 )

Short Moral Stories In Hindi For Class 9 : गर्मियों के दिन थे । एक कौआ बहुत प्यासा था । उसका गला सूख रहा था । वह इधर – उधर उड़ता हुआ पानी की तलाश कर रहा था । पर उसे कहीं भी पानी नहीं दिखाई दिया । सभी जलाशय सूख गए थे । 

अंत में कौए को एक मकान के पास एक घड़ा दिखाई दिया । वह घड़े के पास गया । उसने उसमें झाँक कर देखा । घड़े में थोड़ा – सा पानी था । पर उसकी चोंच पानी तक नहीं पहुँच सकती थी । 

अचानक उसे एक उपाय सूझा । वह जमीन से एक – एक कंकड़ उठा कर घड़े में डालने लगा । धीरे – धीरे घड़े का पानी ऊपर आने लगा । अब कौए की चोंच पानी तक पहुँच सकती थी । कौए ने जी – भर कर पानी पिया और खुशी से काँव – काँव करता उड़ गया । 

शिक्षा ( moral stories for students of class 9 )

जहाँ चाह , वहाँ राह ! 

२ . अंगूर खट्टे हैं !

 1 क दिन एक भूखी लोमड़ी अंगूर के बगीचे में जा पहुँची । बेलों पर पके हुए अंगूरों के गुच्छे लटक रहे थे । यह देख कर लोमड़ी के मुँह में पानी आ गया । मुँह ऊपर की ओर बढ़ा कर उसने अंगूर पाने की कोशिश की । 

पर वह सफल न हो सकी । अंगूर काफी ऊँचाई पर थे । उन्हें पाने के लिए लोमड़ी खूब उछली , फिर भी वह अंगूरों तक नहीं पहुँच सकी । जब तक वह पूरी तरह थक नहीं गई , उछलती ही रही । 

आखिरकार थक कर उसने उम्मीद छोड़ दी और वहाँ से चलती बनी । जाते – जाते उसने कहा , ” ये अंगूर खट्टे हैं । ऐसे खट्टे अंगूर कौन खाए ? ” । 

शिक्षा ( moral stories for students of class 9 )

हार मानने में हर्ज क्या ?

2. खरगोश और कछुआ

( Moral Stories In Hindi For Class 9 )

कछुआ हमेशा धीरे – धीरे चलता था । कछुए की चाल देख कर खरगोश खूब हँसता । एक दिन कछुए ने खरगोश से दौड़ की शर्त लगाई । दौड़ शुरू हुई । खरगोश खूब जोर से दौड़ने लगा । वह जल्दी ही कछुए से काफी आगे निकल गया । 

अपनी जीत निश्चित मान कर खरगोश सोचने लगा , ‘ अभी कछुआ बहुत पीछे है । वह धीरे – धीरे चलता है । इतनी जल्दी शर्त जीतने की जरूरत क्या है ? पेड़ के नीचे बैठ कर थोड़ा आराम कर लूँ । 

जब कछुआ पास आता दिखाई देगा , तो दोड़ कर में उससे आगे निकल जाऊँगा और शर्त जीत लूँगा । यह देख कर कछुआ खूब नाराज होगा । बड़ा मजा आएगा । खरगोश पेड़ की छाया में आराम करने लगा ।

 कछुआ अब भी काफी पीछे था । थकान के कारण खरगोश को नींद आ गई । जब उसकी आँख खुली , तो उसने देखा कि कछुआ आगे चला गया है और विजय – रेखा पार कर मुस्करा रहा है । 

खरगोश शर्त हार गया । 

शिक्षा ( moral stories for students of class 9 )

धैर्य और लगन से काम करने वाला हमेशा विजयी होता है ।

3 . चालाक लोमड़ी 

( Moral Stories In Hindi For Class 9 )

एक दिन एक कौए ने एक बच्ची के हाथ से एक रोटी छीन ली । उसके बाद वह उड़ कर पेड़ की ऊँची डाली पर जा बैठा और रोटी खाने लगा । एक लोमड़ी ने उसे देखा , तो उसके मुँह में पानी भर आया । 

वह पेड़ के नीचे जा पहुँची । उसने कौए की ओर देख कर कहा , ” कौए राजा , नमस्ते । आप अच्छे तो हैं ? ” कौए ने कोई जवाब नहीं दिया । लोमड़ी ने उससे कहा , ” कौए राजा , आप बहुत चमकदार और सुंदर लग रहे हैं । यदि आपकी वाणी भी मधुर है , तो आप पक्षियों के राजा बन जाएंगे । जरा मुझे अपनी आवाज तो सुनाइए । ” 

मूर्ख कौए ने सोचा , ‘ मैं सचमुच पक्षियों का राजा हूँ । मुझे यह सिद्ध कर | देना चाहिए । ‘ उसने ज्यों ही गाने के लिए अपनी चोंच खोली कि रोटी चोंच से छूट कर नीचे आ गिरी । लोमड़ी रोटी उठा कर फौरन भाग गई । । 

शिक्षा ( moral stories for students of class 9 )

झूठी तारीफ करने वाले से सावधान रहना चाहिए ।

4 . ग्रामीण चूहा और शहरी चूहा 

( Moral Stories In Hindi For Class 9 )

एक ग्रामीण चूहा था । वह खेत में रहता था । एक शहरी चूहा उसका मित्र था । वह शहर में रहता था । एक दिन ग्रामीण चूहे ने शहरी चूहे को खाने पर निमंत्रित किया । उसने अपने शहरी मेहमान को मीठे – मीठे बेर , मूंगफली के दाने तथा कंद – मूल खाने के लिए दिए । 

पर शहरी चूहे को गाँव का सादा भोजन पसंद नहीं आया । उसने ग्रामीण चूहे से कहा , ” भाई , सच्ची बात कहूँ तो तुम्हारा यह देशी खाना मुझे पसंद नहीं आया । यह तो इतना अच्छा खाना नहीं है । इसमें कोई स्वाद भी नहीं है । तुम मेरे घर चलो , तो तुम्हें पता चलेगा कि बढ़िया खाना कैसा होता है ! “

ग्रामीण चूहे ने शहरी चूहे का आमंत्रण स्वीकार कर लिया । एक दिन वह शहर गया । उसके शहरी मित्र ने उसे अंजीर , खजूर , शहद , बिस्कुट , पावरोटी तथा मुरब्बा आदि खाने के लिए दिया । भोजन बड़ा स्वादिष्ट था । लेकिन शहर में वे दोनों चैन से भोजन नहीं कर पाए । 

वहाँ बार – बार एक बिल्ली आ जाती और चूहों को अपनी जान बचाने के लिए भागना पड़ता था । शहरी चूहे का बिल भी बहुत छोटा और सँकरा था ।

कितना दुःखी जीवन है तुम्हारा , भाई ? ‘ ग्रामीण चूहे ने शहरी चूहे से कहा । ” मैं तो अपने घर लौट जाता हूँ । वहाँ मैं कम – से – कम शांतिपूर्वक खाना तो खा सकता हूँ । ” खेत में अपने स्थान पर वापस लौटने पर ग्रामीण चूहे को बड़ी प्रसन्नता हुई ।

शिक्षा ( moral stories for students of class 9 )

शांति और निर्भयता में ही सच्चा सुख है ।

5 . टिड्डा और चींटी 

( Moral Stories In Hindi For Class 9 )

गर्मियों के दिन थे । खुली धूप थी और मोसम साफ था । अनाज भी भरणा था । ऐसे समय पर एक टिड्डा भरपेट खाना खा कर गीत गाने में पर था । उसने देखा , कुछ चीटियाँ खाने की सामग्री ले जा रही हैं । शायद वे भविष्य के लिए संग्रह कर रही थीं । 

चींटियों को देख कर वह हंसने लगा । उनमें से एक चींटी से उसकी दोस्ती थी । टिड्डे ने उस चींटी से कहा , ” तुम सब कितनी लालची हो ! इस खशी के मौके पर भी काम कर रहा हा ! तरस आता है तम पर ! ” चीटी ने जवाब दिया , ” अरे भाई , हम लोग बरसात के लिए खाने की सामग्री एकत्र कर रही हैं । “

गर्मियों के बाद बरसात का मौसम शुरू हुआ । आकाश में बादल छा गए । खुली धूप जाती रही । अब टिड्डे के लिए भोजन जुटाना मुश्किल हो गया । आखिरकार उसके सामने भूखों मरने की समस्या खड़ी हो गई । 

एक दिन टिड्डे ने अपनी दोस्त चींटी का दरवाजा खटखटाया । उसने कहा , ” चींटी बहन , कृपा कर मुझे कुछ खाने के लिए दो । में बहुत भूखा हूँ । ” 

चींटी ने जवाब दिया , ” गर्मी के दिनों में तो तुम गीत गाने में मगन थे और इधर – उधर घूमते रहे , अब बरसात के मौसम में कहीं जा कर नाचो । तुम जैसे आलसी को में एक भी दाना नहीं दे सकती । ” और उसने झट से दरवाजा बंद कर दिया । 

शिक्षा ( moral stories for students of class 9 )

आज की बचत ही कल काम आती है । 

6 . लालची कुत्ता 

( Moral Stories In Hindi For Class 9 )

एक बार एक कुत्ते को हड्डी का एक टुकड़ा मिल गया । उसे अपने मुँह में पदबा कर वह एक कोने में जा बैठा । वह थोड़ी देर तक उस हड्डी के टुकड़े को चूसता रहा । बाद में थक कर वह वहीं सो गया । जब उसकी नींद खुली तो उसे जोरों की प्यास लगी । मुँह में हड्डी का टुकड़ा दबाए वह पानी की खोज में चल पड़ा । 

वह एक नदी के किनारे गया । पानी पीने के लिए वह झुका , तो उसे पानी में अपनी ही छाया दिखाई दी । उसे लगा , ‘ नदी में कोई दूसरा कुत्ता है । उस कुत्ते के मुँह में भी हड्डी का टुकड़ा है । ‘ कुत्ते के मन में इस हड्डी के टुकड़े को हथिया लेने का विचार आया । 

उसने गुस्से में आ कर जैसे ही भौंकने के लिए मुँह खोला , तो उसके मुँह से हड्डी का टुकड़ा नदी में जा गिरा । लालच में उसने अपने मुँह की हड्डी भी गँवा दी । 

शिक्षा ( moral stories for students of class 9 )

लालच का फल बुरा होता है ।

7. मधुमक्खी और कबूतर 

( Moral Stories In Hindi For Class 9 )

Short Moral Stories In Hindi For Class 7

एक मधुमक्खी थी । एक बार वह उड़ता हुई तालाब के ऊपर से जा रही थी । अचानक वह तालाब के पानी में गिर गई । उसक पख गीले हो गए अब वह उड़ नहीं सकती थी । उसकी मृत्यु निश्चित थी । 

तालाब के पास पेड़ पर एक कबूतर बेठा हुआ था । उसने मधुमक्खी को पानी में डूबते हुए देखा । कबूतर ने पेड़ से एक पत्ता तोड़ा । उसे अपनी चोंच में उठा कर तालाब में मधुमक्खी के पास गिरा दिया । धीरे – धीरे मधुमक्खी उस पत्ते पर चढ़ गई । थोड़ी देर में उसके पंख सूख गये । उसने कबूतर को धन्यवाद दिया । फिर वह उड़ कर दूर चली गई । 

कुछ दिन के बाद कबूतर पर एक संकट आया । वह एक पेड़ की डाली पर आँख मूंद कर सो रहा था । तभी एक लड़के ने अपनी गुलेल से उस पर निशाना साधा । कबूतर इस खतरे से अनजान था । मगर मधुमक्खी ने लड़के को निशाना साधते हुए देख लिया था । 

मधुमक्खी उड़ कर लड़के के पास पहँची । उसने लड़के के हाथ में डस लिया । लड़के के हाथ से गुलेल गिर पड़ा । दर्द के मारे वह जोर – जोर से चीखने लगा । लड़के की चीख सुन कर कबूतर जाग गया । उसने अपनी जान बचाने के लिए मधुमक्खी को धन्यवाद दिया और मजे से उड़ गया । 

शिक्षा ( moral stories for students of class 9 )

अच्छे लोग हमेशा दूसरे की मदद करते हैं ।

8 . किसान और जादुई बतख । 

( Moral Stories In Hindi For Class 9 )

एक किसान के पास एक जादुई बतख थी । वह रोज सोने का एक अंडा देती थी । किसान सोने के अंडे को बाजार में बेच देता था । इससे उसे अच्छी आमदनी हो जाती थी । थोड़े ही दिनों में किसान अमीर हो गया । उसने एक विशाल मकान बनवाया । इसमें वह अपनी पत्नी तथा बच्चों के साथ आनंद से रहने लगा । 

बहुत दिनों तक इसी प्रकार चलता रहा । एक दिन किसान ने सोचा , ‘ यदि मैं इस बतख के शरीर से सारे अंडे एक साथ ही निकाल लूँ , तो मालामाल हो जाऊँगा । ‘ 

किसान ने एक बड़ा – सा चाकू लिया और बतख का पेट चीर डाला । परंतु बतख के पेट में से उसे एक भी अंडा नहीं मिला । किसान को अपनी गलती पर बहुत दुःख हुआ । वह पछताने लगा । 

उसकी हालत पागलों जैसी हो गई । बतख मर गई थी । उसे बतख से रोज सोने का एक अंडा मिलता था । अब उसे वह कभी नहीं मिल सकता था । 

शिक्षा ( moral stories for students of class 9 )

लालच बुरी बला है । 

conclusion

कुछ ऐसी ही short moral story in hindi for student हम अक्सर आपके लिए लेकर आते रहते हैं । दोस्तों  अगर आप इसी तरह की moral stories in hindi for class 9  के बारे में पढ़ना चाहते हैं तो हमारे साइट को सब्सक्राइब कर लीजिए क्योंकि हम आपके लिए DAILY ऐसी ऐसी मजेदार कहानिया लेकर आते रहेंगे अगर आपको हमारी यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो प्लीज अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें.

Thank You 

Read Moral Stories More :  

Recommended Love Stories  :

अगर आप हमसे High quality, Impressive और SEO friendly आर्टिकल लिखवाना चाहते हो तो आप हमसे संपर्क कर सकते हो. ज्यादा जानकारी के लिए नीचे दिए गए whatsapp नंबर पे संपर्क करें.

हमारी अन्य सेवाएं

  1. Adsense approved करवाना
  2. Wordpress setup
  3. Blogger ब्लॉग को wordpress पे transfer करना
  4. किसी भी तरह की वेबसाइट बनाना
  5. Android App बनाना
हमारा whatsapp नंबर है : 8396860141

Hi, I’m Sandeep Kumar. A Blogger, Digital Marketer And Social Influencer, i Have A More Than 2 years Of Experience. I Love Technology And Also Love To Share Knowledge On Social Platform

Leave a Comment

Close Bitnami banner
Bitnami