बेवकूफ शेर Panchatantra story in hindi with moral

78 / 100 SEO Score
बेवकूफ शेर - Panchatantra story in hindi with moral
Panchatantra story in hindi with moral

बेवकूफ शेर Panchatantra story in hindi with moral

बेवकूफ शेर Panchatantra story in hindi with moral : एक जंगल में एक शेर रहता था । एक दिन उसे बहुत भूख लगी । वह गुफा से बाहर आया और किसी जानवर की तलाश करने लगा । उसे दूर एक पेड़ के नीचे खरगोश दिखाई दिया ।

वह पेड़ की छाया में मजे से खेल रहा था । शेर खरगोश को पकड़ने के लिए आगे बढ़ा । खरगोश ने शेर को अपनी ओर आते हुए देखा , तो वह जान बचाने के लिए भागने लगा । बेवकूफ शेर Panchatantra story in hindi with moral

शेर ने उसका पीछा किया और लपक कर उसे धरदबोचा । शेर ने ज्यों ही खरगोश को मारने के लिए पंजा उठाया कि उसकी निगाह एक हिरन पर पड़ी । उसने सोचा कि इस नन्हे खरगोश से मेरा पेट भर नहीं सकता ।

इससे तो हिरन ही अच्छा रहेगा । शेर ने खरगोश को छोड़ दिया । वह हिरन का पीछा करने लगा । हिरन ने शेर को देखा , तो जोर – जोर से छलांग लगाता हुआ भाग खड़ा हआ । what बेवकूफ शेर Panchatantra story in hindi with moral.?

शेर हिरन को नहीं पकड़ सका । उसके पीछे भागते – भागते शेर थक कर चूर हो गया । अंत में उसने हिरन का पीछा करना छोड़ दिया ।खरगोश भी हाथ से गया और हिरन भी उसे नहीं मिला ।अब शेर खरगोश को छोड़ देने के लिए पछताने लगा । बेवकूफ शेर – Panchatantra story in hindi with moral

शिक्षा ( Moral Of Panchatantra story in hindi )

आधी छोड़ सारी को धाए , आधी रहे न सारी पाए । बेवकूफ शेर – Panchatantra story in hindi with moral

Read Moral Stories More :

Recommended Love Stories  :

Close Bitnami banner