बाघ की बन आई – Panchatantra Story In Hindi With moral

65 / 100
बाघ की बन आई - Panchatantra Story In Hindi With moral
Panchatantra Story In Hindi With moral

बाघ की बन आई – Panchatantra Story In Hindi With moral

एक जंगल में चार गायें रहती थीं । उनमें गाढ़ी मित्रता थी । वे चारों हमेशा साथ – साथ ही रहती थीं । एक साथ घूमने जातीं । साथ – साथ चरने जाती । वे बड़े सुख से रहती थीं ।

कभी कोई जंगली जानवर उन पर हमला करता , तो वे चारों मिल कर उसका सामना करती और उसे मार कर भगा देतीं । | बाघ की बन आई – Panchatantra Story In Hindi With moral

उसी जंगल में एक बाघ भी रहता था । उसकी नजर इन गायों पर थी । वह गायों को मार कर खा जाना चाहता था । लेकिन उनकी एकता देख कर उन पर हमला करन का उसको हिम्मत नहीं होती थी । ।

एक दिन गायों का आपस में झगड़ा हो गया । वे एक – दूसरे से नाराज हो गईं । उस दिन हर गाय अलग – अलग रास्ते से जंगल में चरने गई । बाघ की बन आई – Panchatantra Story In Hindi With moral

बाघ तो बहुत दिनों से इसी ताक में बैठा था । उसने एक – एक कर सभी गायों को मार डाला और उन्हें खा गया ।

शिक्षा ( Moral Of Panchtantra story in hindi )

एकता में ही शक्ति है , फूट से ही विनाश होता है । |

Read Moral Stories More :

Recommended Love Stories  :

Close Bitnami banner