नाग और चींटियाँ – panchatantra short stories in hindi – 2020

Table Of Content
नाग और चींटियाँ - panchatantra short stories in hindi
panchatantra short stories in hindi

panchatantra short stories in hindi – नाग और चींटियाँ

panchatantra short stories in hindi : एक जंगल में एक नाग रहता था । वह रोज चिड़ियों के अंडों , छिपकलियों , चूहों , मेढकों , खरगोशों एवं छोटे-छोटे जानवरों को खाता रहता था । इस प्रकार छोटे – छोटे जीवों को खा कर वह दिन भर सुस्त पड़ा रहता ।

कुछ दिना में ही वह काफी लंबा और मोटा हो गया । उसका घमंड भी बहुत बढ़ गया । एक दिन नाग ने सोचा , ‘ मैं जंगल में सबसे ज्यादा शक्तिशाली हूँ । मैं जंगल का राजा हूँ । अब मुझे अपनी प्रतिष्ठा और आकार के अनुकूल किसी बड़े स्थान पर रहना चाहिए । ‘

यह सोच कर उसने अपने रहने के लिए एक विशाल पेड़ का चुनाव किया । पेड़ के पास चींटियों का एक बिल था । वहाँ ढेर सारे मिट्टी के छोटे – छोटे । कण जमा थे ।

नाग और चींटियाँ - panchatantra short stories in hindi with images
panchatantra short stories in hindi

नाग ने कहा , ” यह बवाल मुझे पसंद नहीं । यह गंदगी यहाँ नहीं रहनी चाहिए । ” वह गुस्से से बिल के पास गया और उसने चींटियों से कहा , ” मैं नागराज हूँ , इस जंगल का राजा ! मैं आदेश देता हूँ कि जल्द – से – जल्द इस कूड़े को यहाँ से हटाओ और चलती बनो ।

नागराज को देख कर अन्य जानवर थर – थर काँपने लगे । पर नन्हीं चींटिया पर उसकी धोस का काई असर नहीं पड़ा । अब नाग का गुस्सा बहुत बढ़ । गया । उसने अपना पूछ से बिल पर कोड़े की तरह जोर से प्रहार किया ।

इससे चीटियों को बहुत क्रोध आया । क्षण भर में हजारों चींटियाँ बिल से निकल कर बाहर आ गई । वे नाग के शरीर पर चढ़ कर उसे काटने लगीं । नागराज को लगा जैसे उसके शरीर में एक साथ हजारों काँटे चुभ रहे हों । वह असह्य वेदना से विह्वल हो उठा ।

असंख्य चींटियों से वह घिर गया था । उनसे छुटकारा पाने के लिए वह छटपटाने लगा । मगर इससे कोई फायदा नहीं हआ । कुछ देर तक वह इसी तरह संघर्ष करता रहा , पर बाद में अत्यधिक पीड़ा से उसकी जान निकल गयी । नाग और चींटियाँ – panchatantra short stories in hindi

[su_box title=”शिक्षा ( Moral Of Panchatantra story in hindi )” box_color=”#f06617″]

किसी को छोटा नहीं समझना चाहिए , व्यर्थ के घमंड से विनाश हो जाता है ।   [/su_box]

Read Moral Stories More :  panchatantra short stories in hindi

Recommended Love Stories  : – panchatantra short stories in hindi

Share on:
you may also like this!

Hi, I’m Sandeep Kumar. A Blogger, Digital Marketer And Social Influencer, i Have A More Than 2 years Of Experience. I Love Technology And Also Love To Share Knowledge On Social Platform

close
You cannot copy content of this page
Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.