नकलची कौआ Panchatantra Story In Hindi With moral

नकलची कौआ - Panchatantra Story In Hindi With moral
Panchatantra Story In Hindi With moral

नकलची कौआ Panchatantra Story In Hindi With moral

एक पहाड़ की ऊंची चोटी पर एक गरुड़ रहता था । पहाड़ की तलहटी में एक बड़ा पेड़ था । पेड़ पर एक कौआ अपना घोंसला बना कर रहता था । नकलची कौआ Panchatantra Story In Hindi With moral

एक दिन तलहटी में कुछ भेड़ें घास चर रही थीं । गरुड़ की नजर एक मेमने पर पड़ी । वह पहाड़ की चोटी से उड़ा । तलहटी में आ कर उसने मेमने पर झपट्टा मारा । उसे चंगुल में ले कर उड़ते हुए वह फिर घोंसले में लौट गया । नकलची कौआ  Panchatantra Story In Hindi With moral

गरुड़ का यह पराक्रम देख कर कौए को भी जोश आ गया । उसने सोचा ‘ यदि गरुड़ ऐसा पराक्रम कर सकता है , तो मैं क्यों नहीं कर सकता ? ‘

दूसरे दिन कौए ने भी एक मेमने को तलहटी में चरते हुए देखा । उसने भी उड़ान भरी और आसमान में जितना ऊपर तक जा सकता था , उड़ता चला गया ।

फिर उसने मेमने को पकड़ने के लिए गरुड़ की तरह जोर से झपट्टा मारा । मगर मेमने तक पहुँचने के बजाय वह एक चट्टान से जा टकराया । उसका सिर फूट गया , चोंच टूट गई और उसके प्राण – पखेरू उड़ गए ।

[su_box title=”शिक्षा ( Moral Of Panchtantra story in hindi )” box_color=”#f06617″]

बिना सोचे – समझे किसी की नकल करने से बुरा हाल होता है  । | [/su_box]

Read Moral Stories More :

Recommended Love Stories  :

Share on:
you may also like this!

Hi, I’m Sandeep Kumar. A Blogger, Digital Marketer And Social Influencer, i Have A More Than 2 years Of Experience. I Love Technology And Also Love To Share Knowledge On Social Platform

close
You cannot copy content of this page
Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.